अगर पैसा पेड़ों पर नहीं बढ़ता है तो बैंकों की शाखाएं क्यों हैं?

अगर पैसा पेड़ों पर नहीं बढ़ता है तो बैंकों की शाखाएं क्यों हैं?